Home पशुपालन Goat Farming: पैसा न हो तो कैसे शुरू करें बकरी पालन, कौन देगा ट्रेनिंग, क्या करना होगा, जानें यहां
पशुपालन

Goat Farming: पैसा न हो तो कैसे शुरू करें बकरी पालन, कौन देगा ट्रेनिंग, क्या करना होगा, जानें यहां

barbari goat, Goat Breed, Bakrid, Sirohi, Barbari Goat, Goat Rearing
बरबरी बकरी की प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. बकरी पालन करने के लिए किसानों को कई बातों का ख्याल रखना होता है. यदि बकरी पालन में ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो जरूरी है कि किसानों को इन बातों की जानकारी रहे. नई-नई तकनीकों से बकरी पालन किस तरह किया जा सकता है जिससे फायदा ही हो नुकसान का सवाल ही ना उठे. इस बारे में ट्रेनिंग लेकर सीखा जा सकता है. इसके साथ-साथ बकरी पालन के लिए सरकारी सहायता भी मिलती है. उसकी जानकारी भी अगर होगी तो सरकारी सहायता की मदद से उन्हें बकरी पालन की शुरुआत करने में आसानी होगी. बकरी पालन के दौरान किन बातों का खास ध्यान रखना चाहिए वो भी किसानों को मालूम होना चाहिए.

यहां से लें बकरी पालन की ट्रेनिंग
यूपी के मथुरा में फरह मखदूम स्थित केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान में बकरी पालन प्रशिक्षण का आयोजन किया जाता है. इस राष्ट्रीय प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य बकरी पालन के प्रति किसानों को जागरुक करना है. साथ ही नई तकनीक के बारे में भी जानकारी देना है. बकरियों को पालने के अपने प्रशिक्षण के दौरान वैज्ञानिकों नई तकनीक के बारे पशुपालकों को जानकारी देते हैं. यदि कोई भी किसान इस प्रशिक्षण में भाग लेना चाहता है तो वह संस्थान के फोन नंबर 0565 27 63 320 पर कॉल कर सकता है. इसके अलावा संस्थान की वेबसाइट www.crg.res.in पर जानकारी हासिल कर सकता है.

सरकारी सहायता भी मिलती है
बकरी पालन के लिए आर्थिक सहायता की बात की जाए तो भारत सरकार बकरी पालन को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं चल रही है. इस योजनाओं के तहत किसानों को बकरी पालन के लिए सब्सिडी लोन और अन्य सहायता प्रदान की जाती है. केंद्र सरकार बकरी पालन के लिए 35 फ़ीसदी तक सब्सिडी देती है. यह सब्सिडी बकरी खरीदने, चारा खरीदने और बकरी के रहने के लिए शेड बनाने के लिए दी जाती है. बकरी पालन के लिए केंद्र सरकार की ओर से 4 लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है. वहीं कई राज्य सरकारें भी आर्थिक सहायता प्रदान करती हैं.

बकरियों का इस तरह रखें ख्याल
यदि आप बकरी पालन की शुरुआत कर चुके हैं तो सबसे पहले ये ध्यान दें कि आपको बकरियों को समय-समय पर स्नान कराना होता है. शेड के अंदर ताजा पानी की व्यवस्था करनी होगी. बकरियों के बच्चों को कुत्ते से बचना होगा. शेड को हमेशा साफ रखना होगा और नियमित अंतराल पर साफ-सफाई का ध्यान रखना होगा. बकरियों को स्वस्थ रखने के लिए उन्हें समय-समय पर टीका लगवाना चाहिए. बकरियों के समय-समय पर चारा दें. वहीं एल्बेंडाजोल की गोली देते रहें ताकि बकरी के पेट के कीड़े मर जाएं. अगर बकरियां जुगली नहीं करती हैं तो डॉक्टर से जांच करवानी चाहिए.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Animal husbandry, heat, temperature, severe heat, cow shed, UP government, ponds, dried up ponds,
पशुपालन

Dairy Animal: पशुओं के लिए आवास बनाते समय इन 4 बातों का जरूर रखें ध्यान, क्लिक करके पढ़ें

दुधारू पशुओं को दुहते समय ही अलग दुग्धशाला में बांध कर दुहा...