Home पशुपालन Animal Husbandry: बैंक और बीमा कंपनी के पास होगी हर एक गाय-भैंस की जानकारी, जानें कैसे
पशुपालन

Animal Husbandry: बैंक और बीमा कंपनी के पास होगी हर एक गाय-भैंस की जानकारी, जानें कैसे

animal pregnancy
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली. देश में पशुपालन करने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. पशुपालन से अच्छा खासा फायदा होने के कारण सरकारें भी इसको बढ़ावा दे रही हैं. इसी कड़ी में अब बैंक और बीमा कंपनी को हर एक गाय-भैंस भैंस का डेटा इकट्ठा करने का निर्देश दिया गया है. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने गत 2 मार्च को भारत पशुधन पशुधन डेटा स्टैक राष्ट्र को समर्पित किया था. भारत की डिजिटल सार्वजनिक अवसंरचना की प्रभावशाली श्रृंखला में यह ये पूरे देश में पशुपालन क्षेत्र के लगभग चार लाख क्षेत्रीय कर्मचारियों द्वारा पहले से ही उपयोग में है. यह पशु आधार के लिए आधार तैयार करेगा और प्रदान की गई सेवाओं का रिकॉर्ड एकत्रित करेगा.

इस एप के जरिए फील्ड कार्यकर्ता पशुओं के लेनदेन से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी जैसे टीकाकरण, कृत्रिम गर्भाधान, ताजा पशु पंजीकरण, स्वामित्व में परिवर्तन, यहां तक कि ई-नुस्खे, बीमारी की रिपोर्ट, दूध की रिकॉर्डिंग आदि को वास्तविक रूप से अपलोड, ट्रैक, मॉनिटर कर रहे हैं. हर एक जानवर के लिए विशेष आईडी नंबर या पशु आधार जारी किया गया है. इस वक्त तक 15.5 करोड़ से अधिक का डाटा फीड किया जा चुका है. हर दिदन लगभग 16 लाख का डाटा फीड किया जा रहा है.

15.63 लाख करोड़ रुपये का है बाजार
ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पशुधन की भूमिका अहम है. इसकी जीवीए हिस्सेदारी लगभग 5% और कुल विकास दर लगभग 7.93% है, और बाजार का आकार 15.63 लाख करोड़ रुपये है. कहा जा रहा है कि इस नए स्टैक के जुड़ने से क्षेत्र को अव्यवस्थित और खंडित विकास की वर्तमान स्थिति से मजबूती मिलेगी. इसकी जानकारी होनेभर से बैंकर और बीमाकर्ता विश्वास की कमी के कारण पहले ककराते थे अब ऐसा नहीं होगा. पूरी ईआरपी प्रयोग योग्य लाइव डेटा सेट के साथ, सभी गतिविधियों को ट्रैक किया जा सकता है. निगरानी की जा सकती है और अंततः किसानों के साथ-साथ प्रसंस्करण उद्योग के लाभ के लिए मुद्रीकृत किया जा सकता है.

एक्सपोर्ट को मिलेगा बढ़ावा
नया स्टैक डिज़ाइन राष्ट्रीय डेटा शेयरिंग और एक्सेसिबिलिटी पॉलिसी (एनडीएसएपी) की सीमा के भीतर किसी भी स्तर पर एपीआई साझा करने की अनुमति देता है और इसका उपयोग राज्य सरकारों द्वारा रोग निगरानी और निगरानी और शुरुआती चेतावनी प्रणालियों के लिए अपने अन्य डेटासेट और गतिविधियों के साथ अभिसरण करने के लिए किया जा सकता है. डेयरी और पशुधन उत्पादों की पता लगाने की क्षमता एक बेहतर विशेषज्ञ व्यवस्था को बढ़ावा देगी. बड़े फार्म और संगठन आईओटी उपकरणों जैसी अतिरिक्त सेवाओं के साथ अपने आंतरिक संचालन के लिए भी इसका उपयोग करेंगे. इससे ज्यादा उत्पादन वाले क्षेत्रों में रोग मुक्त क्षेत्र स्थापित किए जा सकेंगे और एक्सपोर्ट को बढ़ावा मिलेगा.

पशु की पूरी हिस्ट्री एप पर होगी मौजूद
एप पशुधन संबंधी सभी निःशुल्क और सशुल्क योजनाओं/सेवाओं तक पहुंचने में सक्षम बनाएगा. इसे ऐसा समझें कि जब भी किसी गाय को राष्ट्रीय पशु रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत एफएमडी टीकाकरण दिया जाता है, तो टीका लगाने वाला सूचना को स्टैक पर अपलोड करता है, और वह इसे अपने एप से भी देख सकते हैं. वहीं पशु का पूरा इतिहास, ब्याने से लेकर पहली बार स्तनपान कराने तक, हर बीमारी के प्रकरण और दिए गए उपचार को देखा जा सकता है और यहां तक कि बीमा कंपनी या बैंकर आदि के साथ साझा किया जा सकता है. किसान पशु को बिक्री के लिए चिह्नित भी कर सकता है ताकि अन्य खरीदार इसे देख सकें और किसान से बातचीत करें.

पशु चिकित्सा सेवा के लिए टोल फ्री नंबर शुरू
किसान के पास अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी उपलब्ध है, जैसे आसपास के सभी तकनीशियनों के संपर्क विवरण, आईवीएफ सेवाओं के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले वीर्य स्ट्रॉ की उपलब्धता, जातीय पशु चिकित्सा दवाओं पर शैक्षिक वीडियो, सुरक्षित दूध देने आदि, तर्कसंगत संतुलन कैलकुलेटर और सामाजिक सामुदायिक विशेषताएं, इस प्रकार , पशुपालकों को परेशान करने वाली सूचना विषमता को दूर करना. सरकार पहले ही केंद्रीकृत कॉल सेंटरों के साथ एमवीयू शुरू कर चुकी है. अब सभी को पशु चिकित्सा सेवाओं के टोल-फ्री कॉल सेंटर 1962 के माध्यम से एक बटन के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है, जो पहले से ही 18 राज्यों में उपलब्ध है और जल्द ही पूरे देश में शुरू किया जाएगा, इस प्रकार 4335 मोबाइल पशु चिकित्सा इकाइयों की अधिकतम उपयोगिता सुनिश्चित की जाएगी जो पहले से ही स्वीकृत हैं.

पशुओं की देखभाल की जानकारी भी उपलब्ध
कहा जा रहा है कि इस वर्ष के अंत में होने वाली आगामी पशुधन जनगणना भी भारत पशुधन इंटरफ़ेस पर होगी, जो भविष्य की पहलों की केंद्रित योजना के लिए सटीक और अद्यतन गणना सुनिश्चित करेगी. भारत पशुधन के माध्यम से तैयार जवाबदेही और पारदर्शिता की उपलब्धता से आवारा जानवरों की गंभीर समस्या पर बेहतर खर्च करने की भी अनुमति मिलेगी. पशु आश्रय स्थल और गौशालाएं अब नंबर जैसी जानकारी ट्रैक कर सकते हैं. जानवरों की स्थिति, उनका चारा, उनकी देखभाल कैसे की जाती है आदि सभी इस इंटरफ़ेस पर, सरकारों और निजी व्यक्तियों दोनों को इन गतिविधियों को वित्त पोषित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. आखिरी में जानवरों और किसानों का सटीक डेटाबेस डीबीटी आधारित योजनाओं, किसानों के लेनदेन के लिए ई-रुपी के उपयोग, एआई के उपयोग और कई अन्य अनुप्रयोगों को अभूतपूर्व विकास के लिए एक मंच प्रदान करने की अनुमति देगा.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

PREGNANT COW,PASHUPALAN, ANIMAL HUSBANDRY
पशुपालन

Animal Husbandry: हेल्दी बछड़े के लिए गर्भवती गाय को खिलानी चाहिए ये डाइट

ब आपकी गाय या भैंस गर्भवती है तो उसे पौषक तत्व खिलाएं....

muzaffarnagari sheep weight
पशुपालन

Sheep Farming: गर्भकाल में भेड़ को कितने चारे की होती है जरूरत, यहां पढ़ें डाइट प्लान

इसलिए पौष्टिक तथा पाचक पदार्थो व सन्तुलित खाद्य की नितान्त आवश्यकता होती...