Home पशुपालन Animal Husbandry: हाईटेक इंटरवेंशनल अल्ट्रासाउंड से होगा गाय-भैंस, भेड़-बकरी का इलाज
पशुपालन

Animal Husbandry: हाईटेक इंटरवेंशनल अल्ट्रासाउंड से होगा गाय-भैंस, भेड़-बकरी का इलाज

PDFA, Gadvasu, Progressive Dairy Farmers Association, Guru Angad Dev University of Veterinary and Animal Sciences, Dope Test
पशुओं की प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. पशु पालकों के लिए अच्छी खबर सामने आई है. अब पशुओं के इलाज के मामले में गुरु अंगद देव पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, लुधियाना के टीचिंग वेटरनरी क्लिनिकल कॉम्प्लेक्स (टीवीसीसी) ने एक मील का पत्थर पार किया है. यहां अब अत्याधुनिक इंटरवेंशनल अल्ट्रासाउंड यूनिट का उद्घाटन किया गया, जिसके जरिए से गाय-भैंस, भेड़-बकरी का इलाज आसानी के साथ किया जा सकेगा. इसके साथ ही पशुओं का जल्दी और उपचार होगा और जल्दी स्वस्थ होंगे. जानकार कह रहे हैं कि इस तकनीकि से पशु चिकित्सा में डायग्नोस्टिक एक्यूरेसी और ट्रीटमेंट एफिशिएंसी के लिए एक नया स्टैंडर्ड बना दिया है.

पशु चिकित्सा के क्षेत्र में मील का पत्थर
इस अत्याधुनिक इकाई का आधिकारिक तौर पर अनावरण कार्यक्रम में डॉ. इंद्रजीत सिंह ने डॉ. एस. पी. एस. घुमन, डीन, पशु चिकित्सा विज्ञान महाविद्यालय के साथ-साथ अन्य संकाय सदस्यों और यूजी/पीजी विद्वान भी मौजूद रहे. कुलपति ने कहा कि यह इकाई हमारे अस्पताल की डायग्नोस्टिक कैपेबिलिटी को और बढ़ावा देगी. उन्होंने कहा कि इस इंटरवेंशनल अल्ट्रासाउंड यूनिट का उद्घाटन पशु चिकित्सा के विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, जो रोगी परिणामों में सुधार के लिए तकनीकी प्रगति के महत्व को अंडरलाइन करता है. डॉ. घुमन ने बताया कि अत्याधुनिक इकाई बीमारियों का शीघ्र पता लगाने के लिए उन्नत इमेजिंग क्षमताओं सहित असंख्य लाभ प्रदान करती है.

छात्रों को पढ़ाने के लिए भी मददगार
वहीं क्लीनिक के निदेशक डॉ. स्वर्ण सिंह रंधावा ने पशु चिकित्सा स्वास्थ्य देखभाल में सबसे आगे रहने के लिए अस्पताल की प्रतिबद्धता पर जोर दिया. कहा कि “इस अत्याधुनिक इंटरवेंशनल अल्ट्रासाउंड यूनिट में निवेश हमारे पशु रोगियों को उच्चतम मानक की देखभाल प्रदान करने के प्रति हमारे समर्पण की पुष्टि करता है. हमें अत्याधुनिक तकनीक को शामिल करने में गर्व है जो हमारी डायग्नोसिस और उपचार क्षमताओं को बढ़ाती है. इसके अलावा, यह इकाई छात्रों के एक बड़े समूह को पढ़ाने में सहायता के लिए एक अतिरिक्त 55” एलईडी स्क्रीन से भी सुसज्जित है जो आमतौर पर केवल छोटी अल्ट्रासाउंड स्क्रीन के साथ संभव नहीं है.

पशु जल्द होंगे ठीक
परियोजना के दूरदर्शी डॉ. रणधीर सिंह और डॉ. राजसुखबीर सिंह ने इस इकाई द्वारा पशु चिकित्सा देखभाल में लाई जाने वाली संभावनाओं के बारे में उत्साह व्यक्त किया. इंटरवेंशनल अल्ट्रासाउंड यूनिट अल्ट्रासाउंड इमेजिंग को न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रियाओं के साथ जोड़ती है, जो पशु चिकित्सकों को एक्साट्राआडेनरी क्लियरिटी के साथ आंतरिक संरचनाओं को देखने और बायोप्सी, द्रव आकांक्षा और कैथेटर प्लेसमेंट जैसे हस्तक्षेप को सटीकता के साथ करने में सक्षम बनाती है. यह न केवल नैदानिक सटीकता को बढ़ाता है बल्कि कुछ प्रक्रियाओं की आक्रामकता को भी कम करता है, जिससे जानवरों के ठीक होने में तेजी आती है.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

livestock animal news
पशुपालन

Animal Husbandry: जर्सी गाय के प्रसव से पहले किन-किन बातों का रखना चाहिए ध्यान, पढ़ें यहां

जर्सी नस्ल की गाय एक बार ब्याने के बाद सबसे ज्यादा लंबे...

KISAN CREDIT CARD,ANIMAL HUSBANDRY,NOMADIC CASTES
पशुपालन

Heat Wave: जानें किन पशुओं को लू का खतरा है ज्यादा, गर्मी में जानवरों को बचाने के लिए क्या करें पशुपालक

समय के साथ पशुधन पर मौजूदा जलवायु परिस्थितियों द्वारा लगाए गए तनाव...

livestock animal news
पशुपालन

Shepherd: इस समुदाय के चरवाहे लड़ते थे युद्ध, जानें एक-दूसरे के साथ किस वजह से होती थी जंग

मासाइयों के बहुत सारे मवेशी भूख और बीमारियों की वजह से मारे...