Home पशुपालन बकरीद: इतने वजन का बकरा खरीदेंगे तो अच्छा मीट मिलेगा और बजट भी कम खर्च होगा
पशुपालन

बकरीद: इतने वजन का बकरा खरीदेंगे तो अच्छा मीट मिलेगा और बजट भी कम खर्च होगा

Bakrid, Barbari Goat, Sirohi, STRAR goat farming, Bakrid, Barbari Goat, Goat Farming
फार्म पर चारा खाते बरबरे बकरे

नई दिल्ली. अगले महीने बकरीद है. इसे लेकर मुस्लिम तैयारी करने में जुटे हैं तो किसान और पशुपालक बकरों को मंडी लाने की तैयारी में है. अब कैसा बकरा खरीदना और कैसा नहीं, ये जानना भी बहुत जरूरी है. इसलिए बकरा कौनसा खरीदें, किस बकरे का मीट अच्छा होगा, किस बकरे में फेट होगा, इसकी जानकारी भी कुरबानी करने वालों को होना बेहद जरूरी है. इसलिए बकरा खरीदते वक्त लोगों को कुछ चीजों का ध्यान रखना चाहिए. आज लाइव स्टॉक एनिमल न्यूज आपको इन्हीं सब बातों से अवगत कराने जा रहा है कि जो जानवर खरीद रहे हैं वो स्वस्थ है या नहीं, उसमें कहीं फेट तो नहीं, ज्यादा मोटे बकर में मटन कम चिकनाई ज्यादा निकलती है.

पांच फीसदी ही खरीदते हैं पांच फीसदी
बकरीद के लिए मुस्लिमों ने अभी से बकरे खरीदना शुरू कर दिया है. वहीं किसान भी अपने बकरों को बकरीद के लिए तैयार कर रहे हैं. 95 फीसदी लोग 15-25 हजार के बीच का ही बकरा पसंद करते हैं. इस बजट में अच्छा बकरा मार्केट में मिल जाता है. बस, आपको सावधानी बरतने की जरूरत है. बहुत से लोग बकरे का वजन एक क्विंटल से भी ज्यादा कर लेते हैं, ये बकरा मीट के हिसाब से बिल्कुल भी ठीक नहीं. इस तरह के बकरे में फैट ज्यादा होता है मीट कम. हालांकि पांच फीसदी लोग ही ऐसे होते हैं जा इतने वजन के बकरे खरीदते है लेकिन ये लोग बकरों को मीट के लिए नहीं अपने शौक के लिए खरीदत हैं.

बकरों को कैमिकल पिलाकर भी लाते हैं मंडी में
बकरा खरीदते वक्त लोगों को कुछ चीजों का बेहद ध्यान रखना चाहिए. आज लाइव स्टॉक एनिमल न्यूज आपको इन्हीं सब बातों से अवगत कराने जा रहा है कि जो जानवर आप खरीद रहे हैं वो स्वस्थ है, एक्टिव है और ​उसे किसी प्रकार का कोई कैमिकल, दवा या बेसन तो नहीं पिलाकर मंडी में लाया गया. अगर नीचे दिए गए इन टिप्स को पढ़कर मंडी जाएंगे तो कभी भी बीमार बकरा नहीं ला सकते. इस बारे में मथुरा के वृंदावन स्थित स्टार साइंटफिक गोट फार्मिंग के संचालक राशिद बताते हैं कि कुछ लोग बकरे को मोटा दिखाने के लिए उन्हें कई तरह के कैमिकल, ज्यादा पानी और बेसन पिलाकर लाते हैं. ये ओवर लिमिट बेसन—पानी बकरे के खेन में नसों के जरिए चला जाता है, जिससे कभी-कभी बकरे की मौत भी हो जाती है.

कम बजट में अच्छा बकरा मिल जाता है
राशिद बताते हैं कि बहुत से लोग बकरे का वजन बहुत बढ़ा लेते हैं, इतने वजन का बकरा मीट के हिसाब से बिल्कुल भी ठीक नहीं. इस तरह के बकरे में फैट ज्यादा होता है मीट कम. इसलिए बकरा ज्यादा से ज्यादा 35-40 किलो लाइव वेट हो तो बहुत ज्यादा है. बकरे में अगर 15-20 किलो मीट निकलेगा तो वो खाने में बहुत ही जायकेदार होता है. इसलिए ज्यादा मोटे बकरे के चक्कर में पड़कर कम वजन का बकरा ही खरीदें. हालांकि ये भी ध्यान रखें कि कुरबानी के लिए बकरा दो दांत होना जरूरी है.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

livestock animal news
पशुपालन

Green Fodder: चारा उत्पादन बढ़ाने के लिए क्या उपाय करने चाहिए, पढ़ें यहां

पशुओं के लिए सालभर हरा चारा मिलता रहे. इसमें कोई कमी न...