Home लेटेस्ट न्यूज Kisan Andolan: अबांला और चंडीगढ़ नेशनल हाईवे पर लगे बैरिकेड हटाए, पंजाब-दिल्ली जाना आसान
लेटेस्ट न्यूज

Kisan Andolan: अबांला और चंडीगढ़ नेशनल हाईवे पर लगे बैरिकेड हटाए, पंजाब-दिल्ली जाना आसान

live stock animal news kisan andolan
प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली. किसानों ने शंभू और खनौरी सहित पंजाब हरियाणा की दो प्रमुख सीमाओं पर विरोध जारी रखा है. वहीं हरियाणा प्रशासन ने सोमवार को अंबाला और चंडीगढ़ नेशनल हाईवे के बीच लगाए गए बैरिकेड को हटा दिया है. इस बीच किसानों ने घोषणा की है कि वह 6 मार्च को नई दिल्ली की ओर मार्च करेंगे. किसान यूनियन ने 10 मार्च को दोपहर 12:00 बजे से शाम 4:00 बजे के बीच रेलवे ट्रैक को भी बंद करने की घोषणा की है. इसी के साथ ही अंबाला चंडीगढ़ हाईवे के बाद अंबाला, कैथल, नानरौल, जयपुर हाईवे पर 152डी पर लगे बैरिकेड को हटा दिया गया है.

ग्रामीणों ने मांग की थी कि अंबाला चंडीगढ़ हाईवे की तर्ज पर पास के लगते गांव के रास्ते को भी खोल दिया जाए. इसके बाद प्रशासन ने 152डी पर लगी बेरीकेडिंग को हटा दिया. अब अंबाला से पंजाब में दिल्ली जाने वाले सभी बंद किए गए हाईवे को प्रशासन ने खोलना शुरू कर दिया है. सीमेंट बैरिकेडिंग हटते ही आम जनता को हाईवे से गुजरने दिया जाएगा. पंजाब या दिल्ली जाना अब आसान हो जाएगा.

पैदल भी आ सकते हैं किसान
वही एसकेएम गैर राजनीतिक के समन्वयक सरबन सिंह पंधेर का कहना है कि हरियाणा के बॉर्डर पर बैठे प्रदर्शनकारी सीमा पर ही अपना विरोध जारी रखेंगे. वह ट्रैक्टर नहीं ले जाएंगे. उन्हें अतिरिक्त तिरपाल उपलब्ध कराया जाएगा. उन्होंने कहा कि हमने दिल्ली चलो मार्च वापस नहीं लिया है. हम हाईवे से बैरीकेडिंग हटने इंतजार करेंगे. दूसरे राज्यों के किसान गरीब होने के कारण ट्रैक्टर ट्राली नहीं लाएंगे. वो रेल, बस या पैदल भी आ सकते हैं. पंधेर ने कहा कि हम सीमाओं पर अपना विरोध जारी रखेंगे.

14 मार्च को महापंचायत
किसान यूनियन के नेताओं ने यह भी ऐलान किया है कि पंजाब हरियाणा बॉर्डर पर अपनी मौजूदगी को मजबूत करेंगे. हालांकि दोनों बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों की संख्या काफी कम हो गई है लेकिन सड़कों पर अभी सैकड़ो ट्रैक्टर ट्रालियां खड़ी देखी जा सकती है. जबकि कुछ प्रदर्शनकारी जरूर अपने घरों को लौट जाते हैं. उनकी जहां उनके पड़ोसी ले लेते हैं. संयुक्त किसान मोर्चा एसकेएम ने घोषणा की है कि 14 मार्च को रामलीला मैदान या जंतर मंतर पर किसान महापंचायत आयोजित की जाएगी.

अभी भी यहां है बैरी​केडिंग
वहीं दूसरी ओर अंबाला के पास शंभू में हरियाणा पंजाब सीमा पर अब भी बैरीकेडिंग जारी है. अधिकारियों का कहना है कि अंबाला प्रशासन अंबाला प्रशासन ने ट्रैफिक शुरू करने के लिए बैरिकेड हटाकर सोमवार देर रात को सादोपुर के पास अंबाला चंडीगढ़ हाईवे की एक लाइन खोल दी है. इससे पहले यात्रियों को अपने स्थान तक पहुंचाने के लिए अलग-अलग रूट जाना पड़ रहा था. दिल्ली चलो मार्च को रोकने के बाद प्रदर्शनकारी किसान शंभू और खनौरी सीमा पर डेरा डाले हुए हैं. किसानों ने 13 फरवरी को मार्च शुरू किया था लेकिन सुरक्षा बलों ने उन्हें रोक दिया था. जिसकी वजह से हरियाणा पंजाब सीमा पर शंभू और खनौरी बॉर्डर पर झड़प भी हुई थी.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

NABARD, Rural Development Bank, Loans, Loans for Industries, Functions of NABARD
लेटेस्ट न्यूज

Nabard: जानें पशुपालकों को सीधे लोन देने के बारे में क्या बोली नॉबार्ड, पढ़ें डिटेल

शुपालन, मत्सय पालन, मुर्गी पालन आदि सेक्टर में ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों...

Wildlife SOS, Shivalik Forest, Leopard NGO, Leopard
लेटेस्ट न्यूज

Wildlife SOS: घायल तेंदुए को उपचार के बाद शिवालिक के जंगल में ही क्यों छोड़ा, जानिए वजह

एक सफल ऑपरेशन में उत्तर प्रदेश के शिवालिक क्षेत्र में तेंदुए के...