Home लेटेस्ट न्यूज Heat Wave: पशु-पक्षियों की प्यास बुझाने को यूपी के इस जिले में वन विभाग ने खुदवा दिए छोटे तालाब
लेटेस्ट न्यूज

Heat Wave: पशु-पक्षियों की प्यास बुझाने को यूपी के इस जिले में वन विभाग ने खुदवा दिए छोटे तालाब

Kasganj Forest Department, water crisis, Ganga River News, water in ponds,animals, birds, livestockanimalnews
प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली. अप्रैल के तीसरे सप्ताह में ही पारा 38-40 डिग्री सेल्सियस पहुंचने लगा है. भीषण गर्मी से लोग ही नहीं पशु व पक्षी भी परेशान होने लगे हैं. हीट वेव की वजह से पशु-पक्षियों के मरने की भी सूचना आने लगी है. ऐसे में पशु-पक्षियों को पानी और धूप से बचाने का बेहद जरूरी है. ऐसे में पशु व पक्षियों को भी गर्मी में पानी मुहैया कराने के लिए तैयार रहना होगा. घरों की छत पर बर्तन में पक्षियों के लिए पानी रखिए. इसी भीषण गर्मी को देखते हुए उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में ​वन विभाग ने शानदार पहल करते हुए पशु-पक्षियों के लिए पानी उपलब्ध कराने के ​लिए जंगलों में छोटे-छोटे तालाब खोदकर उनमें पानी भर दिया है, जिससे वे अपनी प्यास को बुझा सकें.

भीषण गर्मी ने लोगों का हाल बेहाल कर दिया है. उत्तर प्रदेश में गर्मी अपने पूरे चरम पर है. तापमान 40 से पार हो चुका है. अभी से इतनी गर्मी पड़ना शुरू हो गई है कि लोग एसी-कूलर के सामने से उठना नहीं चाहते. ऐसे में पशुओं को भी गर्मी सताने लगी है. हालात ये हो गए हैं कि हीट वेव के चलते पशु ठीक से चारा भी नहीं खा पा रहे हैं, जिसका असर दूध उत्पादन पर पड़ रहा है. दूध कम होने से पशुपालकों को आर्थिक नुकसान का भी सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में पशु-पक्षियों के लिए पानी का संकट पैदा हो गया है. नहर-कुओं में भी पानी नहीं बचा है. ऐसे में उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले के वन विभाग ने एक जंगलों में छोटे-छोटे तालाब खोदवा दिए हैं, जिससे पशु यहां आकर अपनी प्यास को बुझा सके. इन तालाबों के बन जाने से हजारों पशु-पक्षी अपनी प्यास बुझा रहे हैं.

पक्षियों के लिए वनों में बनाए गए छोटे तालाब
कासगंज जिले के गंगावन, भागीरथ वनों में पक्षियों को पानी उपलब्ध कराने के लिए छोटे तालाब बनाए गए हैं. इन तालाबों को जंगहों में थोड़ी-थोड़ी दूर पर खोदवाया गया है, जिससे पशुओं को पानी के लिए बहुत दूर तक न भटकना पड़े. इन तालाबों में वन विभाग की ओर से पानी भरवाया जाता है. अलग-अलग जगहों पर कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है, जिससे वे तालाबों में पर नजर रख सकें. जैसे ही तालाब खाली होते हैं, उन्हें पाइप लाइन जरिए या फिर टैंकरों से भरवा दिया जाता है. इस बारे में वन रेंजर विवेक कुमार ने लाइव स्टॉक एनिमल न्यूज से बात करते हुए कहा कि आगामी दिनों में गर्मी काफी तेज होगी. कासगंज के वनों में हजारों की संख्या में पक्षियों का बसेरा रहता है. पेड़ों की छांव व पानी के लिए पानी उपलब्ध होने से पक्षियों को काफी राहत मिलेगी.

कोशिश करें कि पक्षियों को पानी के न भटकना पड़ें
पर्यावरण प्रेमी भारत किशोर दुबे ने कहा कि भीषण गर्मी में पेड़, पौधों में सिंचाई की बहुत जरूरत होती है. निराश्रित पशु व पक्षी भी गर्मी की वजह से काफी परेशान होते हैं इसलिए इनका ध्यान रखना बेहद जरूरी है. तेज धूप में उन्हें पीने के लिए पानी जरूर उपलब्ध कराएं. घरों की छतों पर बर्तन में पानी भरकर रखने से पक्षियों को पानी उपलब्ध होगा. सुबह के समय पक्षियों को दाना भी खिलाएं. शहर और कस्बों व गांवों में लोग निराश्रित पशुओं के लिए पानी उपलब्ध कराने के लिए प्याऊ बनाए जाते थे. सार्वजनिक स्थलों पर यह प्याऊ धीरे-धीरे समाप्त हो गए.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Ramsar Site, Samaan Bird Sanctuary, Migratory Birds, Mainpuri News, Samaan Bird Sanctuary in Kishni
लेटेस्ट न्यूज

Ramsar Site में शामिल समान पक्षी विहार की सूख रही झील , पशु-पक्षी और जंगली जानवर प्यासे

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले की किशनी में समान पक्षी विहार की...

Wildlife SOS, My Sweet Paro, Suzy elephant, Mahout Baburam, Blind elephant,
लेटेस्ट न्यूज

‘माई स्वीट पारो’: जब हुआ बूढ़ी नेत्रहीन हथिनी और उसकी देखभाल करने वाले महावत में प्यार

74 साल की उम्र में, सूज़ी-एक मादा हथिनी–वाइल्डलाइफ एसओएस की देखरेख में...