Home मीट Meat: ऐसा करने से भैंस के मीट का बिजनेस होगा बूस्ट, देश में रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे
मीट

Meat: ऐसा करने से भैंस के मीट का बिजनेस होगा बूस्ट, देश में रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे

buffalo meat export
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. देश में भैंस के मांस के उत्पादन सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश, आन्ध प्रदेश, महाराष्ट्र और पंजाब में किया जाता है. साल 2022-23 के दौरान देश ने विश्व को 25,648.10 करोड़ रुपए 3,194.70 मिलियन अमरीकी डॉलर कीमत के 1,175,869.13 मीट्रिक टन भैंस के मांस उत्पादन करने के बाद एक्सपोर्ट किया है. एक्सपर्ट कहते हैं कि भैंस के मांस के बिजनेस में और ज्यादा सुधार किया जाता है. हालांकि कुछ जरूरी स्ट्रेटजी है, जिसे अपनाने की जरूरत है. ऐसा करने से भैंस के मीट का व्यापार बढ़ जाएगा. व्यापार बढ़ेगा तो इससे रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे.

प्रोडक्शन और सेलिंग पर सर्वे प्रोजेक्ट को फ्यूचर के रुझानों की भविष्यवाणी और मांस उद्योग विकास कार्यक्रमों के निर्माण के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शुरू करने के लिए आधार सामग्री के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है. मीट वैज्ञानिकों और पशु जेनेटिक्स को मांस परपज के लिए संभावित क्रॉस ब्रीड भैंस विकसित करने के उद्देश्य से अपने रिसर्च में सहयोग करना चाहिए. भैंस के मांस प्रौद्योगिकी पर अनुसंधान परियोजनाओं को गोमांस के लिए यूएसडीए की तरह भैंसों के कार्यशील वध ग्रेड पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

इस बात पर ध्यान देने की जरूरत
भैंस के मीट कच्चे माल की लागत को सीमित करके कम कीमत वाले फास्ट मीट खाद्य पदार्थ तैयार करने का एक आसान साधन प्रदान करता है. इसलिए, रिसर्च का फोकस क्षेत्र भैंस के मांस के कम लागत वाले तैयार उत्पादों पर होना चाहिए. दूसरा क्षेत्र मृत पशुओं के मांस की गुणवत्ता में सुधार के लिए उपयुक्त् टेक्नालॉजी को डिजाइन करना है. अनुसंधान को हमारे देश में उपलब्ध पारंपरिक भैंस के मांस उत्पादों के स्व-जीवन के विस्तार और उन्हें पेटेंट कराने के लिए आवश्यक प्रयास करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

ऐसा करने से देश को होगा फायदा
सरकार को मांस और प्रोडक्शन प्रोसेसिग यूनिट उद्योग शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए और सब्सिडी/प्रोत्साहन देना चाहिए. भ्रूण स्थानांतरण रिसर्च, बेहतर रोग नियंत्रण, पर्याप्त पोषण और मांस प्रबंधन में स्वच्छता के बेहतर स्तर के माध्यम से बेहतर बछड़ों का उत्पादन बढ़ाने से भारत अधिशेष नर बछड़ों का उपयोग करके मांस उत्पादन में एक बड़ी छलांग लगाने में सक्षम होगा. वित्तीय संस्थानों को भैंस के मांस व्यापार से संबंधित गतिविधियों के वित्तपोषण के लिए आगे आना चाहिए.

आम लोगों को इसका फायदा बताने की जरूरत
भैंस के मांस और उत्पादों की गुणवत्ता और स्वास्थ्य लाभों को लोकप्रिय बनाने पर उचित उपभोक्ता शिक्षा कार्यक्रम जनता को पशु प्रोटीन का एक सस्ता स्रोत प्रदान करेंगे. भैंस के मांस उत्पादों की मांग भैंस के मांस उत्पादन पर सभी कार्यक्रमों के लिए उत्प्रेरक के रूप में काम करेगी. सूचना के आदान-प्रदान और समग्र सुधार के लिए संपर्क कार्यालयों, मांस उद्योगों, मांस निगमों, अनुसंधान कार्यकर्ताओं और एपीडा (कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण) और सेलिंग और निरीक्षण निदेशालय (डीएमआई) जैसे नोडल निकायों के बीच एक बहुत मजबूत संबंध बनाया जाना चाहिए.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

red meat benefits
मीट

Meat: रेड मीट इंसानों को बीमारी से बचाने में है कारगर, यहां जानें और क्या-क्या फायदे हैं

इन एंटीऑक्सीडेटिव पेप्टाइड्स को बीमारियों की रोकथाम और उम्र बढ़ने से संबंधित...