Home डेयरी Dairy: हॉर्ट पेशेंट भी खूब खा सकते हैं डेयरी प्रोडक्ट, लेकिन करने होंगे ये काम
डेयरी

Dairy: हॉर्ट पेशेंट भी खूब खा सकते हैं डेयरी प्रोडक्ट, लेकिन करने होंगे ये काम

dairy products
प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली. इंसानों के शरीर को कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन बी, पोटेशियम और विटामिन डी जैसे आवश्यक पोषक तत्वों की जरूरत होती है. ये जरूरतें डेयरी प्रोडक्ट से पूरी की जा सकती है. डेयरी प्रोडक्ट शरीर के विकास के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण होते हैं. हालांकि जब बात दिल के बीमार लोगों की आती है तो एक्सपर्ट भी डेयरी प्रोडक्ट का सेवन सावधानी से करने की सलाह देते हैं. क्योंकि डेयरी प्रोडक्ट में संतृप्त वसा भी होती है जो एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाती है. इससे हृदय रोगों का खतरा बढ़ सकता है.

हालांकि विशेषज्ञों का ये भी कहना है कि डेयरी उत्पादों को पूरी तरह से नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि इनमें महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की भी मात्रा होती है. जो शरीर और दिमाग को फायदा पहुंचाता है. विशेष रूप से, उन लोगों के मामले में जिन्हें पहले से ही हृदय रोग है, पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पाद हृदय संबंधी जटिलताओं का कारण बन सकते हैं. रिसर्च के मुताबिक मध्यम डेयरी सेवन, प्रति दिन 200 ग्राम तक, हृदय स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव नहीं डाल सकता है.

पनीर कम खाना चाहिए
जबकि कम वसा वाले दूध, हरे दही और पनीर को प्राथमिकता दी जाती है. पूर्ण वसा वाले दूध और क्रीम पनीर का सेवन हमेशा कम मात्रा में किया जाना चाहिए. यदि आप डेयरी और संतृप्त वसा के अन्य स्रोतों की जगह लेना चाहते हैं, तो असंतृप्त वसा, जैसे नट्स, एवोकाडो, या जैतून का तेल को आहार में शामिल किया जा सकता है. हृदय रोग वाले व्यक्तियों के लिए, कम संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल वाले विकल्पों को प्राथमिकता देना महत्वपूर्ण है, क्योंकि ये घटक हृदय संबंधी जोखिम कारकों को बढ़ा सकते हैं. अपोलो अस्पताल की मुख्य पोषण विशेषज्ञ डॉ. प्रियंका रोहतगी ने दिल के बीमार लोगों के लिए सर्वोत्तम और सबसे खराब डेयरी उत्पादों के बारे में बताया.

कम फैट वाला दही
इसी तरह, कम वसा वाले दही, विशेष रूप से ज्यादा शूगर से रहित सादा दही, संतृप्त वसा और कैलोरी सेवन को कम करने के लिए एक अनुकूल विकल्प प्रस्तुत करता है.

कम फैट वाला पनीर
कम वसा वाले पनीर, जैसे कि पनीर या पार्ट-स्किम मोत्ज़ारेला को शामिल करने से मध्यम सैचुरेटेड फैट मैटेरियल्स के साथ डेयरी लाभ मिल सकते हैं, हालांकि कैलोरी घनत्व के कारण भाग नियंत्रण महत्वपूर्ण रहता है.

ग्रीक दही
सादी दही की तुलना में ग्रीक दही अपने उच्च प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट मैटेरियल के लिए जाना जाता है, जो इसे दिल की सेहत के लिए फायदेमंद बनाता है.

दिल के बीमार लोगों के लिए ये हैं नुकसानदेह प्रोडक्ट
फुल फैट वाला दूध
फुल फैट वाले दूध और दही के प्रकारों से बचना चाहिए क्योंकि उनमें संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे हृदय संबंधी जोखिम बढ़ जाते हैं.

क्रीम चीज़ या चेडर
सैचुरेटेड से भरपूर क्रीम चीज़ का सेवन कम से कम करना चाहिए, जबकि चेडर या स्विस जैसी हार्ड चीज़, जो संतृप्त वसा से भरपूर होती है, हृदय रोगियों के आहार में सीमित सेवन की आवश्यकता होती है.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

animal husbandry
डेयरी

Dairy: गर्मी में दुधारू पशु को कितना पिलाना चाहिए पानी, जानें यहां

एक लीटर दूध देने के लिए ढाई लीटर अतिरिक्त पानी की आवश्यकता...

livestock animal news
डेयरी

Jersey Cow Milk: कैसे बढ़ाया जा सकता है जर्सी गाय का दूध, एक्सपर्ट के बताए 3 तरीके यहां पढ़ें

अक्सर बहुत से किसान जर्सी गाय से हासिल होने वाले दूध का...

livestock animal news
डेयरी

Milk Production In Summer: इन तरीकों को अपनाकर पशुओं को गर्मी से बचाएं तो कम नहीं होगा दूध उत्पादन

एक्सपर्ट कहते हैं कि पशुपालकों का फायदा दूध उत्पादन पर ही टिका...

cow and buffalo cross breed
डेयरी

Milk Production: गर्मी में भी दूध उत्पादन नहीं होगा कम, डेयरी पशुओं की इस तरह करें केयर

पशुओं को प्रतिदिन पानी से धोना चाहिए या दिन में पशु पर...