Home मछली पालन Sea Food: भारत और हांगकांग के बीच बढ़ सकता है ड्राई फ‍िश मछली का एक्सपोर्ट कारोबार, पढ़ें डिटेल
मछली पालन

Sea Food: भारत और हांगकांग के बीच बढ़ सकता है ड्राई फ‍िश मछली का एक्सपोर्ट कारोबार, पढ़ें डिटेल

fish farming
फिश मार्केट का दौरा करते अधिकारी.

नई दिल्ली. एमपीईडीए और हांगकांग और मकाऊ में भारत के कंसल जनरल दूतावास का कार्यालय संयुक्त रूप से 27 और 28 मार्च 2024 को हांगकांग में एक डायनेमिक बायर-सेलर बैठक (बीएसएम) और भारतीय सी फूड परीक्षण सत्र का आयोजन किया. बताया गया कि इस बहुआयामी कार्यक्रम में आकर्षक व्यापारिक बातचीत का वादा किया गया. गोलमेज सम्मेलन में एक-पर-एक चर्चा, गहन समुद्री भोजन चखने के सत्र, और प्रतिष्ठित एबरडीन मछली बाजार और साई यिंग पुन-शेंग वान सूखे समुद्री भोजन बाजार सहित प्रसिद्ध समुद्री खाद्य बाजारों, सुपरमार्केट और रेस्तरां की व्यावहारिक यात्राओं गहन चर्चा हुई.

इसके अलावा प्रतिनिधियों को थोक विक्रेताओं के साथ जानकारी से भरपूर चर्चा में शामिल होने का अवसर मिला. भारत के महावाणिज्य दूतावास सुश्री रेनजिना मैरी वर्गीस, कौंसल (वाणिज्य), हांगकांग के कार्यालय और डॉ. टी. आर. गिबिन कुमार, उप निदेशक, एमपीईडीए के नेतृत्व में, भारतीय प्रतिनिधिमंडल सार्थक चर्चाओं का नेतृत्व करने और प्रभावशाली व्यापार संबंध बनाने के लिए तैयार है. बता दें कि एमपीईडीए ने हांगकांग में उच्च गुणवत्ता वाले भारतीय समुद्री खाद्य उत्पादों की विविध श्रृंखला का प्रदर्शन किया है.

मछली बाजार किया दौरा
दोनों अधिकारियों के नेतृत्व में भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने प्रतिष्ठित एबरडीन मछली बाजार का दौरा किया. यह यात्रा 27-28 मार्च को हांगकांग में महावाणिज्यदूत, हांगकांग और मकाऊ एसएआर और एमपीईडीए द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित क्रेता-विक्रेता बैठक का हिस्सा थी. इस यात्रा हांगकांग मछली सेलिंग संगठन (एफएमओ) द्वारा आयोजित की गई थी. अधिकारियों के नेतृत्व में 8 निर्यातकों के भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने 28 मार्च को हांगकांग के शेंग वान में सूखी मछली और मछली के पंजे के बाजार का दौरा किया. गौरतलब है कि हांगकांग भारतीय समुद्री भोजन के अविश्वसनीय स्वाद को चख हुआ है.

समुंद्री भोजन की बनेगी जगह
क्रेता-विक्रेता बैठक (बीएसएम) में बोलते हुए, सुश्री रेन्जिना मैरी वर्गीस ने कहा कि ये यात्रा बेहद ही अच्छी रही है. इससे बहुत कुछ सीखने को मिला है. इससे भारत और हांगकांग के बीच रिश्तों में और मजबूती आएगी. जबकि भारत के समुंद्री भोजन यहां और ज्यादा मजबूत जगह बनाने में कामयाबी हासिल कर लेगा. इस दौरान सतवंत खनालिया, महावाणिज्यदूत, हांगकांग और मकाऊ एसएआर और श्री डी.वी. एमपीईडीए के अध्यक्ष स्वामी आईएएस ने हांगकांग में महावाणिज्यदूत, हांगकांग और मकाऊ एसएआर और एमपीईडीए द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित समुद्री भोजन क्रेता-विक्रेता बैठक के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Fisheries,Fish Farming, Fish Farming Centre, CMFRI
मछली पालन

Fish Farming: मछली के साथ करें मुर्गी पालन तो होगी दोहरी कमाई, फिश फार्मिंग की कास्ट भी होगी कम

मुर्गियां जो बीट करेंगी मछलियां उसे चारे के तौर पर इस्तेमाल कर...

livestock animal news
मछली पालन

Fisheries: मछली के साथ बत्तख पालने के क्या-क्या हैं फायदे पढ़ें यहां

बतखें पोखर के कीड़े-मकोड़े, मेढ़क के बच्चे टेडपोल, घोंघे, जलीय वनस्पति आदि...