Home लेटेस्ट न्यूज Wildlife SOS: फिल्म अभिनेत्री दिव्या सेठ शाह ने जाना हाथी और भालुओं हाल, लोगों से की ये खास अपील
लेटेस्ट न्यूज

Wildlife SOS: फिल्म अभिनेत्री दिव्या सेठ शाह ने जाना हाथी और भालुओं हाल, लोगों से की ये खास अपील

Wildlife SOS, Film Actress Divya Seth Shah, Elephant Conservation and Care Centre, Agra Bear Conservation Centre
हाथी संरक्षण केंद्र का दौरा करती फिल्म अभिनेत्री दिव्या सेठ शाह

नई दिल्ली. भारतीय फिल्म और टेलीविजन अभिनेत्री दिव्या सेठ शाह ने हाल ही में मथुरा और आगरा में स्थित वाइल्डलाइफ एसओएस केंद्रों का दौरा किया, जहां उन्होंने हाथी और भालू संरक्षण पर जागरूकता पहल के बारे में सीखा. अपनी विज़िट के दौरान, दिव्या को हाथी संरक्षण और देखभाल केंद्र, आगरा भालू संरक्षण केंद्र और हाथी अस्पताल परिसर को नज़दीक से जानने का अवसर मिला, जिससे उन्हें जानवरों को बचाने और पुनर्वास में वाइल्डलाइफ एसओएस के समर्पित प्रयासों की प्रत्यक्ष जानकारी प्राप्त हुई.

शुरुआत में, दिव्या ने मथुरा में भारत के पहले हाथी अस्पताल का दौरा किया. यहां, उन्होंने कैद से छुड़ाए गए हाथियों के सामने आने वाली गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जाना और घायल, बीमार और वृद्ध हाथियों के इलाज में एनजीओ की पशु चिकित्सा टीम के प्रयासों को देखा. अस्पताल की अपनी यात्रा के दौरान, दिव्या ने अन्य निवासी हाथियों को देखने के अलावा, बुज़ुर्ग मादा हथिनी जिंजर को नियमित चिकित्सा उपचार और लेजर थेरेपी से गुजरते हुए देखा.

हाथियों को जीवन जीने का मिला दूसरा मौका
हाथी संरक्षण और देखभाल केंद्र में, दिव्या को अभयारण्य में बचाए गए हाथियों के इतिहास से परिचित कराया गया. उन्होंने देखा कि कैसे एक बार दुर्व्यवहार और क्रूरता का शिकार होने वाले इन हाथियों को जीवन जीने का दूसरा मौका प्रदान किया गया है. संस्था के हाथी देखभाल कर्मचारियों और पशु चिकित्सकों की टीम के साथ जानकारीपूर्ण सत्रों में शामिल होकर, दिव्या ने भारत में एशियाई हाथियों के बचाव और संरक्षण में सामने आने वाली महत्वपूर्ण चुनौतियों के बारे में गहनता से जाना.

वाइल्ड लाइफ एसओएस ने 100 स्लॉथ भालूओं को दिया नया जीवन
दिव्या के एक दिवसीय दौरे का समापन आगरा भालू संरक्षण केंद्र के दौरे के साथ हुआ, जो स्लॉथ भालुओं के लिए दुनिया का सबसे बड़ा बचाव केंद्र है. यहां अभिनेत्री को कुछ निवासी भालुओं की कहानियों के माध्यम से क्रूर ‘डांसिंग’ भालू प्रथा के बारे में पता चला. इसके अतिरिक्त, दिव्या ने देखा कि कैसे वाइल्डलाइफ एसओएस ने इस प्रथा को हल किया और सुविधा में लगभग 100 स्लॉथ भालूओं को नया जीवन दिया.

लोग भी आएं हाथियों क सरंक्षण के लिए आगे
अभिनेत्री दिव्या सेठ शाह ने कहा “मैं सभी से आग्रह करुंगी कि भारत के पहले हाथी अस्पताल का दौरा करें और स्वयं देखें कि इन हाथियों को यहां कितने सुरक्षित रूप से रखा गया है. यहां टीम उन्हें सर्वोत्तम उपचार और आहार प्रदान करती है, और वे यह सुनिश्चित करते हैं कि हाथी अपने दुखद अतीत को भूल जाएं. मैं आप सभी से ट्रेन दुर्घटनाओ में घायल हुए हाथियों पर वाइल्डलाइफ एसओएस की याचिका पर हस्ताक्षर करने का भी आग्रह करुंगी और बानी की कहानी के माध्यम से-एक हाथी का बच्चा जिसे रेलवे दुर्घटना से बचाया गया था. यह सुनिश्चित करें कि हमारी ट्रेनें और रेलवे ट्रैक हाथी गलियारों में सतर्क रूप से अपना कार्य करें.

भ्रमण करके अभिनेत्री हुईं खुश
वाइल्डलाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ, कार्तिक सत्यनारायण ने कहा, “दिव्या का हमारे केंद्रों में आने का निर्णय वन्यजीव संरक्षण के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और हाथियों और भालुओं की भलाई की वकालत करने की उनकी इच्छा को दर्शाता है. एक सेलिब्रिटी के रूप में, जितना संभव हो उतने लोगों तक पहुंचने और जागरूकता बढ़ाने के लिए अपनी आवाज का उपयोग करना उनका एक बेहद सराहनीय कदम है. वाइल्डलाइफ एसओएस की सह-संस्थापक और सचिव, गीता शेषमणि ने कहा, “हम अपने पुनर्वासन केंद्रों में दिव्या जैसी प्रसिद्ध अभिनेत्री को देख कर बेहद खुश हैं. हमें उम्मीद है कि यहां बिताए गए अपने समय के दौरान, वह भालू और हाथियों के सामने आने वाली समस्याओं से संबंधित अधिक मूल्यवान जानकारी लेकर गई होंगी.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Ramsar Site, Samaan Bird Sanctuary, Migratory Birds, Mainpuri News, Samaan Bird Sanctuary in Kishni
लेटेस्ट न्यूज

Ramsar Site में शामिल समान पक्षी विहार की सूख रही झील , पशु-पक्षी और जंगली जानवर प्यासे

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले की किशनी में समान पक्षी विहार की...

Wildlife SOS, My Sweet Paro, Suzy elephant, Mahout Baburam, Blind elephant,
लेटेस्ट न्यूज

‘माई स्वीट पारो’: जब हुआ बूढ़ी नेत्रहीन हथिनी और उसकी देखभाल करने वाले महावत में प्यार

74 साल की उम्र में, सूज़ी-एक मादा हथिनी–वाइल्डलाइफ एसओएस की देखरेख में...

IGNOU, Indira Gandhi National Open University, Post Graduate Diploma in Animal Welfare, PGDAW,
careerलेटेस्ट न्यूज

IGNOU से इस कोर्स को कर लिया तो पुशचिकित्सा क्षेत्र में झट से लग जाएगी नौकरी, जानिए पूरी डिटेल

भारत के प्रमुख दूरस्थ शिक्षा संस्थान इग्नू ने पशु कल्याण में स्नातकोत्तर...