Home मीट Meat उत्पादन के लिए किया जाता है इस नस्ल की भेड़ का पालन, पढ़ें डिटेल
मीट

Meat उत्पादन के लिए किया जाता है इस नस्ल की भेड़ का पालन, पढ़ें डिटेल

coyambattur sheep breed
कोयंबटूर नस्ल की भेड़ की प्रतीकात्मक तस्वीर.

कोयंबटूर. कोयंबटूर नस्ल की भेड़ तमिलनाडु के कोयंबटूर जिले और निकटवर्ती डिंडीगुल जिले में में पाई जाती है. ये मध्यम आकार के जानवर होते हैं. इनके शरीर पर काले या भूरे धब्बों के साथ सफेद दाग भी होता है. कान मध्यम आकार के होते हैं और बाहर और पीछे की ओर निकले हुए होते हैं. पूंछ छोटी और पतली होती है, ऊन सफ़ेद, मोटा, बालों वाला और खुला होता है. जानवरों को बिना किसी अतिरिक्त खुराक के चराई पर रखा जा सका है. भेड़ों को कटे हुए खेतों में रखा जाता है. मेढ़े सींग वाले और परागयुक्त दोनों होते हैं जबकि भेड़ें सींग रहित होती हैं.

ये है इसकी पहचान
मुख्य रूप से मांस के लिए इनका पालन किया जाता है. 2006 तक इस नस्ल की अनुमानित जनसंख्या 243000 थी. कोयंबटूर झुंड में 530 + 13 के रेशियो में रहता है. जिसमें मेढ़े और भेड़ के बच्चे जीरो से 12 महीने तक होते हैं. ये संगठित शरीर वाली होती हैं. वे सफेद रंग के होती हैं और उनके सिर और गर्दन पर अलग-अलग मात्रा में कल या बू रंग होता है. जो कंधे पीठ तक ही फैल सकता है. अधिकांश झुंड में शुद्ध प्रजनन का अभ्यास किया जाता था. हालांकि 19.7 फ़ीसदी झुंडों ने मांस प्रकार के बालों की नस्ल पेश की. जैसे शरीर की वजन में सुधार के लिए क्रॉसिंग के लिए रामनाथ, पटनम और मचेरी भेड़ों का इस्तेमाल हुआ. ऊन की कटाई हर साल में जून के दौरान की जाती है और उनका छांटकर काबली बनने के लिए किया गया. झुंड के मालिकों के द्वारा गांव में ले जाया जाता था या कच्चे रूप में भेजा जाता था.

इस नस्ल पर किया गया था रिसर्च
जन्म के समय, तीन, छह और बारह महीने की उम्र में शरीर का औसत वजन 2.16, 7.50, 10.83 और 14.77 किलोग्राम होता है. औसत 6-मासिक चिकने ऊन का वजन 365 ग्राम होता है. जिसमें औसत फाइबर व्यास 41 माइक्रोन और मेडुलेशन प्रतिशत 58 फीसदी होता है. कोयंबटूर भीड़ की नस्ल के पालन पोषण के वातावरण और पालन प्रथाओं का एक विशेष सर्वेक्षण के माध्यम से अध्ययन किया गया था. प्रजनन और प्रवासी क्षेत्र के जलवायु गर्म में वनस्पति और खेती की गई. प्रवासी झुंडों के लिए आवास उपलब्ध नहीं कराया गया था. उन्होंने नायलेन जल की मदद से रात के दौरान खुले कटे हुए खेत में बांध दिया गया था. मेमनों को झोपड़ी में रखा जाता था और फिर उन्हें उनके बांधों के साथ चरने के लिए छोड़ दिया जाता था.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

buffalo meat, Availability Of Meat Per Capita, Meat Export, Meat Product, MEAT PRODUCTION
मीट

Meat: इन राज्यों में ज्यादा है मीट की डिमांड, कम पड़ने पर ये राज्य करते हैं सप्लाई

भारत में साल 2024 में बफैलो मीट प्रोडक्शन और एक्सपोर्ट और भी...

red meat benefits
मीट

Meat: रेड मीट इंसानों को बीमारी से बचाने में है कारगर, यहां जानें और क्या-क्या फायदे हैं

इन एंटीऑक्सीडेटिव पेप्टाइड्स को बीमारियों की रोकथाम और उम्र बढ़ने से संबंधित...