Home मछली पालन Fisheries: ज्यादा मछली उत्पादन के लिए ऐसे करें तालाब मैनेजमेंट, जानें यहां
मछली पालन

Fisheries: ज्यादा मछली उत्पादन के लिए ऐसे करें तालाब मैनेजमेंट, जानें यहां

Interim Budget 2024
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. मछली पालन को सरकार बढ़ावा दे रही है और किसान भी मछली पालन करके अपनी इनकम दोगुना कर रहे हैं. देश की कुल आबादी के 70 फीसदी लोग मछली का सेवन करते हैं. आने वाले समय में मछली की मांग और ज्यादा बढ़ जाएगी. इसको देखते हुए मछली पालन एक फायदे का सौदा है. अगर मछली किसान मछली पालन में और ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं उन्हें मछलियों की बीमारी और तालाब के बारे में पूरी जानकारी होना चाहिए. खासतौर पर प्रजनक तालाबों की जलीय गुणवत्ता मापदंडों से जुड़ी आम समस्याएं होती हैं, यदि इसका समाधान मछली पालन के पास नहीं है तो नुकसान होगा.

समस्या की बात की जाए तो अक्सर तालाब के जल में घुलित ऑक्सीजन की मात्रा में कमी हो जाती है. ये अक्सर अपर्याप्त वायु संचरण (मुख्यतः आसमान में बादल छाए रहने पर) प्रजनकों का अधिक भंडारण घनत्व अधिक आहार देने के कारण ऑक्सीजन की खपत करने वाले रसायनों के कारण होता है. इस समस्या के कारकों की पहचान कर प्रत्येक में सुधार करें. जैसे कि वायुकरण यंत्रों का उपयोग कर या जल को बदल कर प्रजनकों का भंडारण घनत्व कम कर (1500 कि.ग्रा. प्रति हे.) आहार में कमी कर ऑक्सीजन की खपत करने वाले रसायनों के प्रयोग के समय वायुकरण यंत्रों का उपयोग करें.

एयर पंप से आक्सीजन बढ़ाएं
पानी में योगदान करने वाले कारकों का निर्धारण कर सुधार करें तुरंत ही 15- 20 प्रतिशत जल को बदल दें. एयर पंप का इस्तेमाल कर ऑक्सीजन के स्तर में वृद्धि कर दें. यदि क्षारीयता का स्तर 100 मि.ग्रा./लि. (लगभग 100-180 मि.ग्रा./लि. पर रखें) से कम है, तब जल में सोडियम बाइकार्बनिट का उपयोग करें. प्रजनकों का भंडारण घनत्व कम कर दें (1500 कि.ग्रा. प्रति है.)। आहार दरों में कमी कर दें. वहीं एयर ट्रांसमिशन को बढ़ाये वायुकरण यंत्रों का उपयोग कर ऑक्सीजन के स्तर में वृद्धि कर दें. प्रजनकों का भंडारण घनत्व कम कर दें (1500 कि.ग्रा. प्रति है). आहार दरों में कमी कर दें। पीएच मान को बढ़ाने के लिए चूना का प्रयोग करें.

तालाब अमोनिया अथवा नाइट्राइट का उच्च स्तर
तालाब के जल में घुलित ऑक्सीजन, क्षारीयता के स्तर अथवा पीएच मान बहुत कम, अथवा जल के तापमान में तेजी से उतार-चढ़ाव प्रजनकों का अधिक भंडारण घनत्व अधिक आहार देने के कारण प्रजनकों का भंडारण घनत्व अथवा आहार के दर अधिक होने पर बड़ी मात्रा में अमोनिया का रूपांतरण नाइट्राइट में और अंततः नाइट्रेट में हो रहा है. हाइड्रोजन ऑयन्स, कार्बन डाइ- ऑक्साइड अथवा जैविक अम्ल में बढ़ोतरी निम्न द्वारा होती है. वायु संचरण में कमी प्रजनकों का अधिक भंडारण घनत्व अधिक आहार देने के कारण स्रोत जल में अपर्याप्त क्षारीयता जल को बदलें प्रजनकों का भंडारण घनत्व कम कर दें. (1500 कि.ग्रा. प्रति हे.)। आहार दरों में कमी कर दें.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

fish farming in pond
मछली पालन

Fish Farming: मछलियों में फंगल डिसीज क्या है, किस तरह का पड़ता है इससे मछली पालन पर असर

फफूंद के बैक्टीरिया फैलने लगते हैं. मछली के अंडे, स्पान तथा मछलियों...