Home पोल्ट्री Poultry: पोल्ट्री फार्म में जमीन पर क्या बिछाना चाहिए, यहां पढ़ें सस्ता और आसान विकल्प
पोल्ट्री

Poultry: पोल्ट्री फार्म में जमीन पर क्या बिछाना चाहिए, यहां पढ़ें सस्ता और आसान विकल्प

Incubator Poultry Farm,Poultry Farm,UP Government,Poultry Farmer,Poultry Market,Chicken Rate,Egg Rate,Parent Bird, livestockanimalnews
चूजों का प्रतीकात्मक फोटो: Livestockanimalnews

नई दिल्ली. पोल्ट्री कारोबार में मुर्गी पालन भी एक बेहतरीन व्यवसाय है और यह व्यवसाय दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. पोल्ट्री कारोबार में हाथ आजमाने की इच्छा रखने वाले लोगों को इसके लिए ट्रेनिंग लेनी चाहिए. ताकि कारोबार में उन्हें नुकसान न उठाना पड़े. मुर्गी पालन में कई बातों का ख्याल रखना पड़ता है. इसके साथ ही मुर्गी या चूजू को जहां पर रखा जाता है उसे जगह पर जमीन पर ऐसा क्या बिछाया जाए जिससे फंगस आदि से बचाया जाए यह जानना पोल्ट्री करो बाबू के लिए बेहद अहम है.

बिछावन का सही प्रबंधन पक्षी की सेहत के लिए बहुत ही अहम भूमिका निभाता है. आपकी पोल्ट्री फार्म के मुनाफे को भी बढ़ाने में मदद करता है. इसलिए कभी बिछावन गीली हो तो तुरंत निकाल कर नई बिछावन बदल देना चाहिए. कभी भी पुराने बिछावन को उपयोग में नहीं लाना चाहिए. इससे नुकसान होता है.

लकड़ी का बुरादा है अच्छा विकल्प
विशेषज्ञों के मुताबिक बिछावन में कई चीजों का उपयोग किया जा सकता है लेकिन बिछावन हमेशा सूखी और फंगस से मुक्त होनी चाहिए. इसमें सोखने की क्षमता अच्छी होनी चाहिए. इसके तौर पर चावलों का छिलका और सस्ता और आसानी से उपलब्ध हो जाता है. यह बेहतर हो सकता है और चूजों के लिए आरामदायक भी होता है. लकड़ी के बुरादे को भी बिछावन के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है. लेकिन सूखा बुरादा ही उपयोग में लाना चाहिए और इसमें फंगस या लकड़ी के मोटे टुकड़े नहीं होने चाहिए. अगर मजबूरी है तो आप गेहूं यह धन की सूखी बड़ी घास भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

रेत का इस्तेमाल कभी न करें
चावलों का सूखा छिलका सबसे बेहतर माना जाता है. कुछ पोल्ट्री फार्म में बिछावन के तौर पर रेत का उपयोग भी करते हैं. यह तरीका गलत माना जाता है. कभी भी रेत का उपयोग बिछावन के तौर पर नहीं करना चाहिए. सर्दी में पोल्ट्री फार्म पर अमोनिया गैस बनने की समस्या होती है. इसलिए सर्दियों में बिछावन तीन इंच तक देने से अमोनिया कम बनती है. अमोनिया के स्तर को कम करने के लिए बिछौना में वजन के हिसाब से 5 फीसदी फिटकरी मिलने से अमोनिया कम बनती है. फिटकरी वजन के हिसाब से मिलने पर अमोनियम 70% तक काम हो जाती है और बिछावन बैक्टीरिया का प्रभाव भी काफी कम हो जाता है.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Incubator Poultry Farm,Poultry Farm,UP Government,Poultry Farmer,Poultry Market,Chicken Rate,Egg Rate,Parent Bird, livestockanimalnews
पोल्ट्री

Poultry: इस देशी जुगाड़ से बनाएं मुर्गियों का घर, कम खर्च, मुनाफा ज्यादा

मुर्गियों के रहने के लिए कैसा घर बनाया जाए इस पर भी...

Backyard poultry farm: know which chicken is reared in this farm, livestockanimalnews
पोल्ट्री

Poultry: अजोला की खेती के लिए कैसे करें क्यारियों को तैयार, क्या-क्या सावधानियां बरतें

पोल्ट्री संचालकों के मन में रहता कि वह अजोलाा की खेती किस...

Poultry farming: Not only airborne infections, but also water can spread disease in chickens, Livestocknews.com
पोल्ट्री

Poultry: अजोला की खेती में क्या-क्या सावधानी बरतें जिससे मुर्गियों को मिले ज्यादा फायदा, जानें यहां

इसका फायदा पोल्ट्री संचालक को मिलता है. जिन मुर्गियों को अजोला खिलाया...

livestock animal news
पोल्ट्री

Poultry: अजोला की खेती के लिए किस तरह की मिट्टी का करें चयन, जानें कितनी आती है लागत

बारिश या अन्य किसी प्रकार का गन्दा पानी क्यारियों में नहीं आना...