Home डेयरी Dairy: भारत के सहयोग से केन्या में मजबूत होगा डेयरी सेक्टर, NDDB ने दिए ये खास टिप्स
डेयरी

Dairy: भारत के सहयोग से केन्या में मजबूत होगा डेयरी सेक्टर, NDDB ने दिए ये खास टिप्स

livestock animal news
केन्या के अधिकारियों से मुलाकात करते एनडीडीबी के अध्यक्ष डॉ. मीनेश सी शाह.

नई दिल्ली. भारत की एनडीडीबी ने श्रीलंका में डेयरी सेक्टर को मजबूत करने के लिए कई प्रयायस किए. अब ये संस्थान केन्या में भी इसी तरह का काम करने जा रही है. ताकि केन्या में भी डेयरी सेक्टर को फायदा मिल सके. एनडीडीबी के अध्यक्ष ने केन्या अधिकारियों को बताया कि एंटीबायोटिक दवाओं का ज्यादा इस्तेमाल करना बंद करना होगा. क्योंकि इसका गलत असर पशुओं पर पड़ता है. एंबीबायोटिक का उपयोग को कम करने और एंटी माइक्रोबियल प्रतिरोध को कम करने में प्रभावी योगदान देना जरूरी है. इसके साथ ही एनडीडीबी के अध्यक्ष डॉ. मीनेश सी शाह ने केन्या में भारत की उच्चायुक्त नामग्या सी खम्पा केन्या में भारत भारतीय उच्चायोग, नैरोबी से मुलाकात की और क्षेत्र में भारत और केन्या के बीच चल रहे पशुपालन और डेयरी के सहयोग के बारे में जानकारी दी.

उन्होंने उच्चायुक्त को भारत से केन्या की बहु-विषयक टीम की चल रही यात्रा के बारे में भी जानकारी दी. जो केन्या सरकार और विभिन्न संगठनों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ संयुक्त रूप से केन्याई डेयरी क्षेत्र को बदलने के लिए गतिविधियों की योजना बनाने और उन्हें लागू करने के लिए काम कर रहे हैं. उच्चायुक्त ने प्रगति की सराहना की और इस सहयोग के आगे बढ़ने और रणनीतिक महत्व के बारे में मार्गदर्शन किया.

एनडीडीबी के अध्यक्ष ने किया दौरा
बैठक के दौरान उपस्थित अधिकारियों में अमूल के प्रबंध निदेशक, जयेन मेहता, एनडीडीबी की सहायक कंपनियों के प्रबंध निदेशक- डॉ. के आनंद कुमार (इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स लिमिटेड), डॉ. सीपी देवानंद (एनडीडीबी डेयरी सर्विसेज), प्रकाश माहेश्वरी (आईडीएमसी लिमिटेड) और एनडीडीबी के कार्यकारी निदेशक, श्री एस राजीव ने अपनी केन्या यात्रा के दौरान, एनडीडीबी के अध्यक्ष, मीनेश सी शाह ने आईएलआरआई का दौरा किया और इयान राइट, उप महानिदेशक, अनुसंधान और विकास-एकीकृत विज्ञान, आईएलआरआई के साथ बैठक की जिसमें सहयोग और सहयोग के पारस्परिक क्षेत्रों पर विचार-विमर्श किया गया, जिसमें वैज्ञानिक प्रजनन भी शामिल था.

पशुओं की बीमारियों के समाधान पर बात हुई
एनडीडीबी के अध्यक्ष ने एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग को कम करने और एंटी माइक्रोबियल प्रतिरोध को कम करने में प्रभावी योगदान देते हुए डेयरी पशुओं में प्रमुख बीमारियों के लिए लागत प्रभावी समाधान के लिए एथनो पशु चिकित्सा दवाओं के महत्व को रेखांकित किया.
बैठक में अमूल के प्रबंध निदेशक भी शामिल हुए. इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स लिमिटेड, आईडीएमसी लिमिटेड, एनडीडीबी डेयरी सेवाएं और केन्या में पशु चिकित्सा सेवा निदेशालय के वरिष्ठ अधिकारी, केन्या पशु चिकित्सा टीके उत्पादन संस्थान, केन्या पशु आनुवंशिक संसाधन केंद्र नया केसीसी केन्या.

डेयरी क्षेत्र को विकसित करन पर जोर
एनडीडीबी के अध्यक्ष डॉ. मीनेश सी शाह ने सहकारिता एवं एमएसएमई विकास मंत्रालय के माननीय कैबिनेट सचिव (मंत्री), साइमन के चेलुगुई और राज्य के पशुधन विकास विभाग के माननीय प्रधान सचिव, जोनाथन म्यूके के साथ बैठक की. केन्या सरकार, अध्यक्ष, केन्या डेयरी बोर्ड, जेनेसियो मुगो, केन्या डेयरी बोर्ड की प्रबंध निदेशक, मार्गरेट रगुट कि बोगी के साथ अमूल के प्रबंध निदेशक जयेन मेहता, एनडीडीबी की सहायक कंपनियों के प्रबंध निदेशक डॉ. के आनंद कुमार, (इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स लिमिटेड) डॉ. सीपी देवानंद (एनडीडीबी डेयरी सर्विसेज), प्रकाश माहेश्वरी (आईडीएमसी लिमिटेड) और एनडीडीबी के कार्यकारी निदेशक एस राजीव ने केन्या के राष्ट्रपति के दृष्टिकोण के अनुरूप केन्या में डेयरी क्षेत्र को विकसित करने के लिए भारत और केन्या की बहु-विषयक टीम के बीच संयुक्त रूप से किए जा रहे विभिन्न हस्तक्षेपों पर विचार-विमर्श किया.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

livestock dairy news
डेयरी

Milk Production: यहां पढ़ें कम संसाधनों के बावजूद कैसे राजस्थान में होता है ज्यादा दूध उत्पादन

वहीं लम्पी जैसी प्राकृतिक आपदा को झेलने के बाद भी मरू प्रदेश...