Home मछली पालन Fisheries: मछली पालन के साथ करें ये काम तो होगा फायदा ही फायदा, खेत के लिए भी मिलेगी खाद
मछली पालन

Fisheries: मछली पालन के साथ करें ये काम तो होगा फायदा ही फायदा, खेत के लिए भी मिलेगी खाद

fish farming in pond
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. मछली पालन को कई और तरह से फायदेमंद बनाया जा सकता है. मसलन मछली पालन के साथ-साथ मुर्गी पालन, बत्तख पालन, और मछली के तालाब के आसपास खेती करके इसे ज्यादा मुनाफे वाला व्यवसाय बनाया जा सकता है. जबकि जलीय कृषि के साथ अन्य खेती और मुर्गी पालन से इन व्यवसाय को भी फायदा होता है. चूंकि देश में मछली पालन की ओर किसानों का रुख तेजी के साथ बढ़ रहा है तो यदि किसान इस तरह का तरीका अपनाएं कि अन्य खेती भी करें तो फायदा होना लाजिमी है. आईए जानते हैं कि मछली पालन के साथ कैसे इन खेती को कर सकते हैं और क्या होगा इसका फायदा होगा.

एक्सपर्ट कहते हैं कि तालाब के इर्द-गिर्द अगर केला, अमरूद, नींबू, सीताफल, अनानास, नारियल, सब्जियों में चुकंदर, करेला, लौकी, बैगन, बंद गोभी, फूलगोभी, खरबूजा, मटर, आलू और दलहन में हरा चना, काला चना, अरहर, राजमा, मटर, तिलहन में मूंगफली सरसों आदि फसल को लगाना चाहिए. यदि इन फसल को तालाब के चारों ओर तीन फीट चौड़ा ऊंचा बांध बनाकर लगाया जाए तो बेहतर होगा. वहीं ग्रास कार्प के भोजन के लिए चरी नेपियर घास की खेती भी तालाब के किनारे की जा सकती है. इससे ग्रास कॉर्प को भोजन मिल जाएगा.

खेत के लिए मिलती है खाद
एक्सपर्ट का कहना है कि तालाब से हासिल होने वाली गाद और जालीय पौधों को खाद के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है. इस खाद को तालाब के किनारे के खेत में डालने से फायदा होता है. इसमें कोई खर्च भी नहीं आता है और फिर में खेत के लिए खाद मिल जाती है. वहीं इसकी खाद खेतों को ज्यादा उपजाऊ बनाने में बहुत सहायक होती है. एक्सपर्ट का मानना है कि इससे खाद्य पर आने वाला खर्च कम हो जाएगा और मछली पालन इस तरह से खेती के लिए भी फायदेमंद हो जाएगा.

मुर्गियों के वेस्ट का करें इस्तेमाल
मुर्गियों के वेस्ट को फिर से रिसाइकल करके खाद के रूप में उपयोग किया जाता है. बताते चलें कि एक मुर्गी के लिए 0.3 से 0.4 वर्ग मीटर की जगह की जरूरत होती है. 50 से 60 पक्षियों से 1 टन उर्वरक हासिल होता है. 500 600 पक्षियों से प्राप्त खाद को एक हेक्टेयर क्षेत्र के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. इस तरह बिना खर्च के 4.5 से 5.0 टन मछली का उत्पादन किया जा सकता है. 700000 अंडे और 1250 किलोग्राम मुर्गी के मांस का उत्पादन होता है. इसमें किसी पूरक आहार अतिरिक्त उर्वरक की जरूरत नहीं होती है.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

fish farming
मछली पालन

Fish Farming: इस तकनीकि से तेजी के साथ बढ़ेगा मछली का साइज, क्लिक करके पढ़ें डिटेल

एक्सपर्ट का कहना है की इस तकनीक का इस्तेमाल करके मछली का...

fish farming in pond
मछली पालन

Fisheries: मछली पालन में एंटीबायोटिक का इस्तेमाल करें या नहीं, क्या है इसका विकल्प

एंटीबायोटिक्स का उपयोग मुख्य रूप से उनके आहार (मेडिकेटेड फीड) के माध्यम...

Interim Budget 2024
मछली पालन

Fisheries: क्या मछलियों को ज्यादा एंटीबायोटिक देने से इंसानों पर भी पड़ता है इसका बुरा असर, पढ़ें यहां

इसके अलावा एंटीबायोटिक्स का इंजेक्शन और एंटीबायोटिक से उपचारित पानी में रखने...

chhattisgarh fisheries department
मछली पालन

Fish Farming: मछली पालन में क्यों किया जाता है एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल, जरूरत है या नहीं जानें यहां

यह वास्तविकता है कि एंटीबायोटिक दवाओं के अत्यधिक उपयोग ने पर्यावरण, उत्पादन...