Home मीट Meat: मांस-मछली खाना चाहिए या नहीं, यहां जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट
मीट

Meat: मांस-मछली खाना चाहिए या नहीं, यहां जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

meat and fish which is better
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. मांस मछली खाने को लेकर लोग अलग-अलग राय रखते हैं. कुछ लोग इसे खाना बेहतर बताते हैं तो कुछ लोग इसको खाना पसंद नहीं करते, इस वजह से इसका नुकसान भी गिनते रहते हैं. हालांकि इसके फायदे और नुकसान दोनों हैं. अगर आपके भी मन में मांस-मछली खाने को लेकर इसी तरह का सवाल है तो आपके लिए ये जानना जरूरी है कि मांस-मछली खाना चाहिए या नहीं, तो आइए जानें एक्सपर्ट क्या कहते हैं.

क्यों खाना चाहिए जानें यहां
एक्सपर्ट की मानें तो मांस और मछली स्वस्थ जीवन के लिए महत्वपूर्ण प्रोटीन स्रोत हो सकते हैं. इसे आपको आहार के साथ संतुलित रूप से खाना चाहिए. क्योंकि ये खान-पान की आवश्यकताओं कि यह पूर्ति करता है. मांस-मछली में अच्छी मात्रा में प्रोटीन, विटामिन, मिनरल्स और ओमेगा 3 फैटी एसिड्स होते हैं, जो आपके शारीरिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि शिशुकाल से लेकर वृद्धावस्था तक ये उपयोगी होता है. प्रोटीन शरीर के मांसपेशियों, खून, त्वचा और अन्य संरचनाओं के निर्माण में मदद करता है. जबकि विटामिन और मिनरल्स विभिन्न शारीरिक प्रक्रियाओं की के लिए आवश्यक होता है.

ज्यादा मात्रा में खाने से करें पहरेज
ओमेगा 3 फैटी एसिड्स जो मछली में पाए जाते हैं. मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद बताया गया है. विशेषकर हृदय स्वास्थ्य को सुधारने के लिए मदद कर सकते हैं और आधिकारिक तौर पर हृदय रोग के रिस्क को कम कर सकते हैं. हालांकि महत्वपूर्ण बात यह भी है कि मांस-मछली को संतुलित रूप से और सावधानी से खाना चाहिए. अधिक मात्रा में मांस खाने से कई स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. जैसे कि दिल की बीमारियां, ऊर्जा की कमी और मूत्राशय में दिक्कतें. इसलिए मांस और मछली को सेवन करते वक्त सावधानी से खाना चाहिए और साथ में फल, सब्जियां, अनाज, पौष्टिक आहार को भी शामिल करना चाहिए.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

red meat benefits
मीट

Meat: रेड मीट इंसानों को बीमारी से बचाने में है कारगर, यहां जानें और क्या-क्या फायदे हैं

इन एंटीऑक्सीडेटिव पेप्टाइड्स को बीमारियों की रोकथाम और उम्र बढ़ने से संबंधित...