Home मछली पालन Shrimp Farming: झींगा बीज तैयार करने के लिए अब टैंक में ही बनाएं आर्टिफ‍िशल समुंद्री पानी
मछली पालन

Shrimp Farming: झींगा बीज तैयार करने के लिए अब टैंक में ही बनाएं आर्टिफ‍िशल समुंद्री पानी

jhinga machli palan
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली. झींगा बीज तैयार करने के लिए एक और विकल्प तैयार हो चुका है. अब टैंक के अंदर ही आर्टिफ‍िशल समुंद्री पानी तैयार किया जा सकता है और उसमें झींगा बीज भी तैयार किया जा सकता है. दरअसल, मीठे पानी के झींगे को अपना जीवन चक्र पूरा करने के लिए 12 पीपीटी खारे पानी की जरूरत होती है. इसी खारे पानी की जरूरत आईलैंड वाले राज्यों में झींगा हैचरी को बनाने में दिक्कतें पैदा करती है. इसे ध्यान में रखते हुए, सीआईएफई, मुंबई ने इन राज्यों में इस्तेमाल के लिए कृत्रिम समुद्री जल का उपयोग करके एक हैचरी तकनीक विकसित की है.

एक्सपर्ट कहते हैं कि विशाल ताजे पानी के झींगा उत्पादन के लिए खारे पानी की आवश्यकता को पूरा करने के लिए, कृत्रिम समुद्री जल तैयार करने के लिए छह प्रमुख, छह छोटे और छह ट्रेस लवणों के साथ एक रासायनिक सूत्र तैयार किया गया था. चूंकि ज्यादातर खनिज और सूक्ष्म लवण प्राकृतिक मीठे पानी में उपलब्ध हैं, इसलिए सात प्रमुख लवणों के साथ एक सरल फार्मूला तैयार किया गया. शुरू में, कृत्रिम समुद्री जल तैयार करने के लिए प्रयोगशाला ग्रेड रसायनों का उपयोग किया जाता था.

कैसे किया जाता है तैयार
टेक्नोलॉजी की आर्थिक वर्कबिलिटी को ध्यान में रखते हुए, 12 पीपीटी के कृत्रिम खारे पानी की तैयारी के लिए कामर्शियल ग्रेड नमक का इस्तेमाल किया गया था. कृत्रिम समुद्री जल तैयार करने के लिए एक अच्छी तरह से साफ किए गए टैंक में कुछ मात्रा में फ़िल्टर किया हुआ ताज़ा पानी भरा गया. टैंक का आकार और पानी की मात्रा हैचरी की उत्पादन क्षमता पर निर्भर करती है. पानी भरने के बाद विभिन्न लवणों की डिजायर्ड मात्रा की गणना की गई. तौला गया और तैयार रखा गया. सालट को एक के बाद एक अच्छी तरह वातन करके मिलाया जाता था और वातन के साथ 2-3 दिनों तक रखा जाता था.

एक अलक टैंक में पंप करते हैं
फिर पानी को फ़िल्टर किया गया और ताजे पानी की झींगा हैचरी के संचालन के लिए उपयोग किया गया. हैचरी का संचालन प्राकृतिक समुद्री जल हैचरी के समान ही है. हैचरी को फ्लो थ्रू या रिसर्कुलेटरी सिस्टम का पालन करके संचालित किया जा सकता है. सिस्टम के माध्यम से प्रवाह में, पानी का किफायती उपयोग करने के लिए साइफन किए गए पानी को उपचार के लिए एक अलग टैंक में एकत्र किया जाता है और हैचरी संचालन में पुन: उपयोग किया जाता है. उपयोग किए गए पानी के टैंक से सतह पर तैरने वाले पानी को एक सप्ताह के गैप पर रीसर्क्युलेटरी सिस्टम से जुड़े जैविक फिल्टर से तैयार एक अलग टैंक में पंप किया जाता है. यह उपयोग किए गए पानी से अमोनिया और नाइट्राइट को हटाने में मदद करता है.

क्या होगा इस टेक्नोलॉजी से फायदा
इस पानी का उपयोग नियमित हैचरी संचालन में किया जा सकता है. यदि पानी की गुणवत्ता ठीक से बनाए रखी जाती है, तो उसी पानी का उपयोग यदि आवश्यक हो तो ताजा पानी मिलाकर लवणता समायोजन के साथ 3 साल या उससे भी अधिक समय तक किया जा सकता है. एक्सपर्ट्स आईलैंड राज्यों में झींगा हैचरी की स्थापना से स्थानीय स्तर पर गुणवत्तापूर्ण बीजों के उत्पादन में मदद मिलेगी और उत्पादकता बढ़ेगी. जिससे किसानों और व्यापारियों की सामाजिक आर्थिक स्थिति में सुधार होगा. विभिन्न सरकारी और अर्ध-सरकारी संगठन, गैर सरकारी संगठन, उद्यमी और किसान इस तकनीक से लाभ उठा सकते हैं.

इन राज्यों में शुरू हो गया है प्रयोग
प्रौद्योगिकी का प्रायोगिक स्तर पर महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, असम, कर्नाटक, उड़ीसा, केरेला, आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में प्रदर्शन किया गया है. कृत्रिम समुद्री जल का उपयोग करके विशाल मीठे पानी की झींगा हैचरियां त्रिपुरा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, नागालैंड और मणिपुर में स्थापित की गई हैं. असम में तीन झींगा हैचरी की स्थापना के लिए मत्स्य पालन विभाग, असम सरकार और सीआईएफई, मुंबई के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं. एक हैचरी गुवाहाटी में स्थापित की गई है और अन्य दो हैचरी सिलचर और डुबरी में निर्माणाधीन हैं. एक अन्य प्रस्ताव बिहार और उत्तर प्रदेश में विशाल मीठे पानी की झींगा हैचरी की स्थापना के लिए भी प्रगति पर है.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Interim Budget 2024
मछली पालन

Fisheries: ज्यादा मछली उत्पादन के लिए ऐसे करें तालाब मैनेजमेंट, जानें यहां

जैसे कि वायुकरण यंत्रों का उपयोग कर या जल को बदल कर...

Interim Budget 2024
मछली पालन

Fisheries: कैसे पता करें मछली बीमार है या हेल्दी, 3 तरीकों से पहचानें

ज्यादातर मामलों में, दो या अधिक कारक जैसे जल की गुणवत्ता एवं...

CIFE will discover new food through scientific method
मछली पालन

Fish Farming: मछलियां फंगल डिसीज से कब होती हैं बीमार, जानें यहां, बीमारी के लक्षण भी पढ़ें

मछली पालन के दौरान होने वाली बीमारियों की जानकारी रहना भी जरूरी...