Home पोल्ट्री Poultry: इन तरीकों को अपनाकर पोल्ट्री कारोबार को एवियन इन्फ्लूएंजा के खतरे से बचाएं
पोल्ट्री

Poultry: इन तरीकों को अपनाकर पोल्ट्री कारोबार को एवियन इन्फ्लूएंजा के खतरे से बचाएं

Poultry farming: Not only airborne infections, but also water can spread disease in chickens, Livestocknews.com
फार्म में चारा खाती मुर्गियां. live stock animal news

नई दिल्ली. एवियन इन्फ्लूएंजा एक ऐसी खतरनाक बीमारी है जो घरेलू और जंगली पक्षियों को अपनी चपेट में ले लेती है. यह एक तरह की संक्रामक वायरल बीमारी है. दुनियाभर के पोल्ट्री एक्सपर्ट इस बीमारी को पोल्ट्री उद्योग, पशु स्वास्थ्य, व्यापार और अर्थव्यवस्था के लिए बड़ा खतरा बताते हैं. इन्फ्लूएंजा टाइप ए वायरस के कारण होने वाले इस रोग की गंभीरता प्रभावित प्रजाति और प्रजाति के आधार पर अलग-अलग होती है. एक बार ये बीमारी पक्षियों में फैल गई तो बड़ा नुकसान होता है. इसलिए इससे बचने के उपाय जरूर करने चाहिए.

एक्सपर्ट कहते हैं कि पोल्ट्री और अंडों को 165 डिग्री फ़ारेनहाइट के आंतरिक तापमान पर उचित ढंग से संभालने और पकाने से बैक्टीरिया और वायरस मर जाते हैं. यानि ये खाने के लिए इंसानों में प्रवेश नहीं कर सकता है. हालांकि ये बीमारी पोल्ट्री उद्योग के लिए बड़ा खतरा जरूर है. एक्सपर्ट कहते हैं कि पोल्ट्री किसानों को बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए जैव सुरक्षा उपायों को अपनाना चाहिए. मुर्गियों का पालन चाहे घर के आंगन में हो या फिर बड़े वाणिज्यिक तौर पर उन्हें जैव सुरक्षा योजनाओं की समीक्षा करनी चाहिए और अपने पक्षियों की सुरक्षा के लिए सावधानी बरतनी चाहिए.

क्या-क्या उपाय किए जाते सकते हैं
-गैरजरूरी लोगों का बिना अनुमति के ऐसी इमारतों में जहां पर पक्षियों को रखा गा है वहां प्रवेश न करने की चेतावनी देने के लिए जैव सुरक्षा संकेतों का उपयोग करें.
-सभी आने वाले लोगों से पूछें कि क्या पिछले पांच दिनों में उनका किसी पक्षी से कोई संपर्क हुआ है.
-उन कर्मचारियों और अन्य किसी को भी प्रवेश न करने दें करें. जिनके पास किसी भी प्रकार का मुर्ग़ा है.
-सभी आने वाले लोगों के सभी जूते-चप्पल ढकने और कीटाणुरहित करने की आवश्यकता है.
-घंटों के बाद मुर्गी घरों के सभी प्रवेश द्वारों को बंद कर दें.
-खेत पर गैर-जरूरी वाहनों के आवागमन से बचें.
-पक्षियों को प्रोसेसर्स तक ले जाने के बाद, फार्म में लौटने से पहले पोल्ट्री ट्रांसपोर्ट कॉप्स और वाहनों को साफ और कीटाणुरहित करें.
-किसी भी असामान्य बात की सूचना, विशेषकर बीमार या मृत पक्षियों की, एजीएम को दें.
-अच्छी जैव सुरक्षा का अभ्यास करने के अलावा, पोल्ट्री मालिकों को अपने पक्षियों को जंगली बत्तखों और गीज़ और उनकी बीट से दूर रखना चाहिए। इस समय मुर्गीपालन के लिए बाहरी पहुंच सीमित होनी चाहिए.
-बीमार पक्षियों, अस्पष्टीकृत उच्च संख्या में मौतों या अंडे के उत्पादन में अचानक गिरावट की रिपोर्ट करने के लिए, कृपया विभाग के पशु उद्योग प्रभाग (518) 457-3502 या यूएसडीए से (866) 536-7593 पर संपर्क करें.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

chicken and egg rate
पोल्ट्री

Egg And Chicken: एक्सपर्ट क्यों देते हैं अंडे और चिकन खाने की सलाह, जानें खाने का क्या है फायदा

पोल्ट्री फेडरेशन ऑफ इंडिया और पोल्ट्री एक्सपोर्ट काउंसिल की ओर से चलाए...